A New Me!

A New Me!

I know I’ve been away from my blog for quite some time, but for the first time I can truly confess that I didn’t miss being here. How? Why? Well, writing something only for the heck of it is quite a chore and the end result is almost always dissatisfactory (at least for me), so …

Kyunki Main Hoon..

Kyunki Main Hoon..

ना खुद को बड़ा जाना, ना अस्तित्व को अपने, जाना तो सिर्फ ये की इश्वर की कल्पना हूँ. अधूरा सा जहां था मेरे बगैर शायद, पूरा करे जो उसको मैं वो ही चेतना हूँ. अगणित हैं रूप मेरे, अगणित सी छटाएं हैं, समा सके किसीमे वो शब्द बहुत कम हैं. ना एक नाम मेरा, ना …